कार्यकर्ताओं के प्रति समर्पण- रैली की राह में कार्यकर्ता का ‘दर्द’ सुन पसीज गए प्रदीप जैन आदित्य

नई दिल्ली 15 दिसम्बर। बीते रोज रामलीला मैदान में कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में देश भर के लाखों कांग्रेसी कार्यकर्ता पहुंचे । रैली में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं को शेर और शेरनी कहकर संबोधित किया ,उससे कार्यकर्ताओं में खासा जोश भर गया है। राहुल गांधी अपने हर कार्यकर्ता का दुख दर्द समझ रहे हैं । राहुल गांधी का संगठन और कार्यकर्ताओं के प्रति समर्पण कांग्रेश के दूसरे नेताओं में ही देखने को मिल रहा है । इसका एक उदाहरण पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य है।

कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में बुंदेलखंड के झांसी ,जालौन, ललितपुर समेत अन्य जनपदों से हजारों कार्यकर्ता दिल्ली पहुंचे थे । झांसी से कार्यकर्ताओं को दिल्ली तक पहुंचाने के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य पूर्व विधायक ,बृजेश व्यास समेत अन्य नेताओं ने सहयोग किया।

प्रदीप जैन आदित्य ने लक्ष्मी गार्डन से कार्यकर्ताओं को स्टेशन तक पहुंचाते हुए उनके दिल्ली पहुंचाने की पूरी व्यवस्था की। कार्यकर्ताओं के खान-पान से लेकर ठहरने की व्यवस्था करने के उपरांत ही प्रदीप जैन अपने सहयोगी अरविंद वशिष्ठ के साथ दिल्ली की ओर रवाना हुए थे।

कार्यकर्ताओं को दिल्ली तक पहुंचाने की जद्दोजहद में वह काफी लेट हो गए। प्रदीप जैन आदित्य को रैली में निर्धारित मंच बीटू पर विराजमान होना था, लेकिन उनके दिल्ली पहुंचने के समय उन्हें एक फोन आया ।

इस फोन में प्रदीप जैन को बताया गया कि ललितपुर से आए एक कार्यकर्ता को खून की उल्टियां हो रही है । कार्यकर्ता की खून की उल्टी की बात सुनते ही प्रदीप जैन व्याकुल हो गए और वह रैली में अपने लिए निर्धारित मंच पर जाने की बजाय सीधे उस कार्यकर्ता के पास पहुंचे।

उस समय प्रदीप जैन आदित्य के साथ अरविंद वशिष्ठ भी थे । दोनों ही कार्यकर्ताओं को लेकर आचार्य हॉस्पिटल पहुंचे और उसे भर्ती कराया कार्यकर्ता का उपचार कराने के उपरांत ही प्रदीप जैन वहां से रैली के लिए निकले । हॉस्पिटल पहुंचने में लगे समय के कारण वह निर्धारित मंच पर नहीं पहुंच पाए, लेकिन उन्होंने अपने को एक साधारण कार्यकर्ता की तरह दूसरे स्थान पर समावेश किया और हिस्सेदारी निभाई।

रैली स्थल में पहुंचने के बाद भी प्रदीप में फोन पर लगातार कार्यकर्ता के कुशल क्षेम की जानकारी ली । बाद में उन्हें बताया गया कि कार्यकर्ता पूरी तरह से स्वस्थ है।

प्रदीप जैन आदित्य के संगठन और कार्यकर्ताओं के प्रति समर्पण ने साबित कर दिया है कि वह सहज सरल और लोगों का दुख दर्द समझने वाले नेता हैं । रैली में गए कार्यकर्ताओं को जब इस घटना की जानकारी हुई , तो उन्होंने पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य के इस प्रयास की सराहना ही नहीं की ,बल्कि उन्हें संगठन और कार्यकर्ताओं के प्रति जिम्मेदार नेता बताया।

You may also like...