2004 में कोंच कोतवाली के अंदर हुए नर संहार मामले में सीओ भगवान सिंह सहित 8 दोषी करार, रिपोर्ट-नवीन कुशवाहा

जालौन । जिले की कोंच कोतवाली में लगभग 16 वर्ष पहले पुलिस द्वारा किए गए बर्बर नर संहार में गुरुवार को अदालत ने फैसला सुनाया जिसमें 8 पुलिस कर्मी दोष सिद्ध घोषित कर दिए गए। इसके बाद कानपुर महानगर में तैनात सी ओ भगवान सहित सभी अभियुक्त जेल भेज दिए गए l शुक्रवार को इन सभी को फांसी या ताउम्र जेल की सजा सुनाई जा सकती है।
गौरतलब है कि कोंच में एक फरवरी 2004 को यह लोम हर्षक वारदात हुई थी जिससे पूरा प्रदेश थर्रा गया था l घटना में कोंच कोतवाली के अंदर पुलिस द्वारा नाजायज ढंग से गिरफ्तार किए गए व्यापारी की पैरवी में पहुंचे सपा नेता महेंद्र सिंह पर कोतवाल डी डी सिंह के नेतृत्व में पुलिस ने अंधाधुंध गोलियां चलाई जिसमें महेंद्र सिंह, उनके भाई सुरेन्द्र सिंह और दयाशंकर झा शहीद हो गए।घटना के बाद कोंच में भारी दंगा भड़क गया। गुस्साए लोगों ने थाना तहसील जला दिए। कई दिन कर्फ्यू लगाना पड़ा। शासन ने इस मामले में तत्कालीन पुलिस अधीक्षक आर के त्रिपाठी को निलंबित कर दिया था।
सुनवाई के दौरान जेल में ही डी डी राठौर और उसके बेटे की मौत हो गई।
गुरुवार को अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम अमित प्रताप सिंह ने जब फैसला सुनाया तो सन्नाटा खिंच गया । उन्होंने कोंच कोतवाली में पदस्थ उप निरीक्षक भगवान सिंह अब सी ओ बन चुके हैं, सेवा निवृत थानाध्यक्ष लाल मनि गौतम सहित 8 लोगों को दोष सिद्ध ठहरा दिया जिसके बाद सभी आरोपी हिरासत में ले लिया और देर शाम जेल भेज दिया।

You may also like...