जालौन- नशा खुलेआम बिक रहा, युवा पीढ़ी हो रही बर्बाद, रिपोर्ट-अतुल

जालौन ।अगर लापरवाही की बात की जाए तो चाहे आबकारी विभाग हो या फिर चाहें खाद्य विभाग अपनी लापरवाही से वह लोगों के स्वस्थ जीवन से खिलवाड़ करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे ।नशा मुक्त समाज का सपना दिखाने वाली सरकारों के विपरीत चल रहा प्रशासन नशा युक्त समाज बनाता जा रहा गांजे पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध है पर नगर के अंदर देव नगर चौराहा कोतवाली से 50 मीटर दूर भांग के ठेके, ग्रामीण क्षेत्रों में खनुवां, कैथ,जगनेबा,सहाव, लहचूरा,आदि गांवों में गांजा बड़ी आसानी से और सस्ते दामों पर मिल जाता है।चाहे आप नाबालिक हो या फिर नाबालिग उन्हें तो सिर्फ पैसों से मतलब है बड़े मजे की बात तो यह है कि गांव में गांजा मिलने बारे स्थानों पर सुबह से लेकर शाम तक गांजा पीने बालो की भीड़ लगी रहती है। आप पैसे चाहे वह चोरी करके ले आओ या किसी से मांग कर आपको मिश्रित गुटखा, चरस, गांजा,दारू सभी उपलब्ध करा दी जाएगी चाहे वह फिर बाजार में बिकने वाले हो,चाहे उससे कोई खतरनाक बीमारी होती है या उस पर सरकार व कोर्ट ने रोक लगाई हो प्रशासन के आला अधिकारी सब नियमों की धज्जियां उड़ाते हुये अपनी कुंभकरणी नींद में सोने का बहाना कर नशा माफियाओं को खुली छूट दिये हुते है जिससे उनके होंसले बुलंद हैं। प्रशासन आखिर क्यों मौन है कार्रवाई के नाम पर सिर्फ लीपापोती क्यो कर रहै। आम लोगों की जिंदगी नशे से बर्बाद हो रही है। प्रशासन को पता नहीं नशा के कारण आये दिन कई परिवार उजड़ जाते नशे के कारण कई लोग गलत काम करते नशे के कारण आज दिन कई लोग मौत को गले लगा लेते नशा की पूर्ति के लिए चोरी करते मारपीट करते नशे में बिलोप्त कई केस चौकी ,थाना, कोतवाली में देखने को मिल जाएंगे फिर भी प्रशासन कोई कड़ा कदम नहीं उठा रहा अगर आपको गांजा लेना हो तो भांग की दुकान पर चले जाना जहां पर नाबालिगों से लेकर बालिको की भीड़ लगी रहती और 50 रुपये से लेकर 1000 रुपए तक का गांजा आपको मिल जाएगा खास बात यह रहती है कि दुकान पर कोई और बैठता है और दुकान का संचालन कोई और करता अगर सूत्रों की मानें तो इनकी पकड़ छोटे अधिकारियों से लेकर बड़े अधिकारियों नेताओं तक होती और सब का हिसाब हर महीने पर किया जाता अगर ऐसा ही हिसाब अधिकारियों को चलता रहा तो 1 दिन इस समाज के युवाओं का हिसाब नशे से हो जाएगा और जिन युवाओं से देश की सुरक्षा की बात की जाती है उनसे फिर नशे की बात की जाएगी परिवार उजड़ रहे युवा बिगड़ रहे लोग बर्बाद हो रहा तभी प्रशासन प्रतिबिंब नशे पर कोई कड़ी कार्रवाई नहीं कर पा रहा देखते हैं शासन- प्रशासन कब तक लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ करता रहेगा इस संबंध में आबकारी विभाग के पी यादव से बात की गई उन्होंने बताया कि समय-समय पर भांग के खेतों की दुकान का निरीक्षण किया जा रहा है अगर इस प्रकार की कोई शिकायत मिलती है तो गोपनीयता से जांच कराएंगे तथा उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे ग्रामीण क्षेत्रों में भी धरपकड़ शुरू की जाएगी।

You may also like...