जालौन-बुराई रूपी रावण जला, अच्छाई की हुई जीत, रिपोर्ट-अतुल पांडेय

जालौन 9 अक्टूबर । दशहरा हमें बुराई पर अच्छाई की जीत याद दिलाने आता है। दशहरा के मौके पर हमें बुराई रूपी रावण को जलाकर भस्म करते हैं, इसे सिर्फ एक रस्म तक सीमित न रखें बल्कि इससे सबक सीखते हुए हम सब भी प्रण कर लें कि हम भी अपनी सारी बुराइयों को त्याग कर, तथा भगवान श्रीराम के जीवन से प्रेरणा ले उनके बताए रास्ते का अनुकरण करें। यदि हम अपने अंदर की बुराइयों का त्याग कर सके, तभी हमारा रावण दहन सफल होगा। उक्त बात दशहरा के मौके पर रावण-दहन के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में जेल अधीक्षक – – – – ने मेला मैदान में उपस्थित दर्शकों के समक्ष कही। इससे पूर्व भगवान राम व लक्ष्मण की भव्य शोभायात्रा भी निकाली गई। तो वहीं, रावण दहन के बाद हुई आकर्षक आतिशबाजी ने दर्शकों का मन मोह लिया।
दशहरा मेला समिति द्वारा आयोजित रावण-दहन का कार्यक्रम श्रीबाराहीं देवी मेला मैदान में किया गया। जिसमें सर्वप्रथम रामलीला भवन से समिति के अध्यक्ष शशिकांत द्विवेदी व मंत्री पवन चतुर्वेदी की अगुवाई में श्रीराम, लक्ष्मण, हनुमान, सुग्रीव, जामवंत तथा रावण की शोभा यात्रा निकाली गई। जो छोटी माता, बड़ी माता, झंडा चौराहा, बस स्टैंड, तहसील रोड से देवनगर चौराहा व लौना रोड होते हुए बावड़ी मैदान में पहुंची। जहां दशहरा मेला समिति द्वारा पहले से ही मंच की व्यवस्था की गई थी। इसी दौरान रावण का पुतला बनाने वाले कारीगर मुहम्मद कासिम द्वारा 45 फुट ऊंचे रावण के पुतले को आग लगा दी जाती है। जिसके बाद रावण नाना प्रकार की गर्जना करते हुए धू-धूकर जल उठा। पुतला दहन के बाद आतिशबाजी का शानदार प्रदर्शन किया गया। जिसमें तकरीबन आधा घंटे चली आकर्षक आतिशबाजी से पूरा आकाश सितारों के समान चमकने लगा। जिसने मैदान पर सैंकड़ों की संख्या में उपस्थित दर्शकों का मन मोह लिया। इस अवसर पर जेल अधीक्षक – – – – को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर उपजिलाधिकारी सुनील कुमार शुक्ला, सी ओ सुबोध गौतम , कोतवाल सुनील कुमार सिंह , नगर पालिका अध्यक्ष गिरीश गुप्ता, चौकी प्रभारी शीतला प्रसाद मिश्रा, सफाई निरीक्षक देवेन्द्र सिंह, कृष्ण पाल सिंह, मनोज शर्मा आदि लोग उपस्थित थे।

You may also like...