झाँसी-शिक्षा में शून्य निवेश नवाचार आधारित लगाई गई प्रदर्शनी, रिपोर्ट-देवेन्द्र

झाँसी। शिक्षा में शून्य निवेश नवाचार आधारित लगाई गई प्रदर्शनी
शिक्षकों द्वारा शिक्षण अधिगम सामग्री पर आधारित प्रदर्शनी को अतिथियों ने खूब सराहा गया।
बधाई के पात्र हैं नवाचारी शिक्षक- उप शिक्षा निदेशक मंशा राम (झांसी मडंल )जिले के परिषदीय विद्यालयों में शून्य निवेश आधारित गतिविधि शिक्षण पद्धति एवं इनोवेटिव पाठशाला के तहत श्री अरविंदों सोसायटी एवं बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षक सम्मान व प्रर्दशनी का कालेज झांसी में किया गया।प्रदर्शनी में जनपद के विकास खंड बडागावं,चिरगावं, महु रानीपुर, गुरसराय
, मोठ़,बबीना,बामोर,बंगरा नगर क्षेत्र ,के विद्यालयों के शिक्षकों ने प्रतिभाग किया।इस दौरान करीब करीब 170 शिक्षकों ने नवाचारी शिक्षा संबंधी क्रियाकलापों के माध्यम से शिक्षा के महत्व को प्रदर्शित किया।जिसे उपस्थित अतिथियों ने खूब सराहा।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री मंशा राम उप शिक्षा निदेशक (झांसी मडंल ), विशिष्ट अतिथि श्री जी. एस राजपुत सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक (झांसी मडंल ), श्री कोमल सिहं यादव जिला विद्यालय निरीक्षक,श्री सचिन दीक्षित जिला बेसिक लेखा अधिकारी समन्वयक रहे।कार्यक्रम के पूर्व अतिथियों ने मां सरस्वती के प्रतिमा पर माल्यापर्ण कर द्वीप प्रज्जवलित किया।इस दौरान चिरगांव ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय चिरौना द्वितिय की शिक्षिकाओं ने मां सरस्वती बंदना व स्वागत गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री मंशा राम ने कहा कि बेसिक शिक्षा हमारी रीढ है।आज इन अध्यापकों के द्वारा किए गए नवाचार को देखकर ऐसे लग रहा है कि बेसिक शिक्षा में अध्यापन कार्य कर रहे शिक्षक बधाई के पात्र उन्होंने श्री अरिविदों सोसायटी के प्रयासों को सराहा।विशिष्ट अतिथि श्री जी. एस राजपुत सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक (झांसी मडंल ) ने कहा कि शिक्षकों की मेहनत को देखकर लग रहा है कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार अवश्य ही आयेगा।जिला विद्यालय निरीक्षक कोमल सिह यादव ने कहा कि। ट्रेनिंग उन्होंने नैनीताल में ली थी जो आज शून्य निवेश नवाचार परिषदीय शिक्षकों ने ट्रेनिंग के उद्देश्य को सार्थक कर दिया है। जनपद झांसी का नाम प्रदेश में नवाचार की श्रेणी में अग्रिम पंक्ति में पहुंचाने का कार्य शिक्षक कर रहे हैं। शिक्षक यदि बच्चों के साथ मित्रवत व्यवहार करें व विद्यालय के कक्षा कक्षों को सजाकर रखें तो अवशय ही परिषदीय विद्यालयों की गुणवत्ता में सुधार अवश्य आयेगा।।इस दौरान श्री अरविंदों सोसायटी के डिवीजन हैड विपिन मदुरिया ने सोसायटी की जानकारी देते हुए बताया कि श्री अरविंदों सोसायटी के द्वारा उत्तर -प्रदेश में वर्ष 2015 से ही शून्य निवेश नवाचार पर शिक्षकों के साथ मिलकर कार्य कर रही है।कार्यक्रम का आभार संचालन सुनील द्विवेदी ने किया।कार्यक्रम के समापन पर श्री अरविंदों सोसायटी संस्था के प्रतिनिधि अनिल कुमार वर्मा व योगेन्द परमार, अमित वर्मा आभार जताया।इस दौरान राम कुमार विश्व कर्मा ब्लाकं खण्ड अधिकारी ,सजीव रावत ,चोधरी धमेन्द , अरविन्द सिहं बुन्देला मोहन लाल सुमन, रामकिशोर प्रजापति, जाजृ एन्टोनी, भानु प्रताप सिहं पखारिया, मो. अनिस, विक्रम रोसिया, अनिल पंचाल,राजकुमार आयँ , महावीर सरन, वन्दना अग्रवाल , मनुजा द्विवेदी, बिन्त फातिमा, माला श्रीवास्तव ,अन्जु सचान, श्रृदा बबेले, शावीना साहिनी, प्ररावेन्द , बीना रत्नाकर, सुनीता यादव, के अलावा सैकडों शिक्षक मौजूद रहे। श्री अरविंदों सोसायटी संस्था के प्रतिनिधि विशाल तिवारी एवं विवेक भारद्वाज भी मौजुद थे।

इनमें प्रमुख रहे टीएलएम –
परिषदीय विद्यालयों के द्वारा शून्य निवेश शिक्षा पर आधारित लगाई गई प्रदर्शनी में विशेष रुप से टीएलएम – स्वच्छ भारत अभियान ,कबाड से जुगाड,चक्के पें चक्का,कार्ड गैम,मैजिक बोक्स,आसान विधि जोड-घटाना,बारहखडी,हस्तकला कौशल,भारत दर्शन,गौशाला,ज्ञान बढाओं टीएलएम, प्रकाश का परिवर्तन, शीतलक वर्किंग मांडल,क्राफ्ट प्रदर्शनी आदि विशेष रहे।

You may also like...