जम्मू कश्मीर में सड़क पर शांति बनाए रखने के लिए प्रशासन होटल व गेस्ट हाउसों को हिरासत केंद्र बनाएगा

नई दिल्ली 16 अगस्त। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद प्रशासन के सामने अभी कई चुनौतियां हैं । अभी घाटी में 144 धारा लागू है, जिसे प्रशासन धीरे-धीरे हटाने की बात कह रहा है । धारा 370 हटाए जाने के बाद घाटी में अभी तक आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच हुई मुठभेड़ नहीं हुई है, लेकिन जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है ,उनको लेकर प्रशासन के सामने परेशानी है ।

प्रशासन इन लोगों को दूसरी जगह शिफ्ट करने के लिए प्राइवेट प्रॉपर्टी को इस्तेमाल करने की सोच रहा है ।इसके लिए होटल और घरों को हायर किया जा सकता है

सूत्रों के अनुसार धारा 370 हटाए जाने के बाद उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुक्ति जैसे पूर्व मुख्यमंत्रियों को हिरासत में रखा गया है । इसके अलावा उन लोगों को भी हिरासत में रखा गया है जो पूर्व में पत्थरबाजी में शामिल रहे हैं । इनकी संख्या कितनी है यह तो साफ नहीं है, लेकिन संख्या अधिक होने के कारण प्रशासन के सामने एक जगह रखने की चुनौती है।

इसके लिए प्रशासन प्राइवेट प्रोटेस्ट प्रॉपर्टी को हिरासत केंद्र के लिए हायर करना चाहता है। इसमें गेस्ट हाउस छोटे होटल और रिहायशी संपत्तियां शामिल हैं । ऐसा इसलिए किया है ताकि कोई भी लोगों को भड़का न सके और सड़कों पर अनुच्छेद 370 हटाए जाने को लेकर विरोध प्रदर्शन ना हो।

अधिकारियों ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से आतंकी भी शांत हैं क्योंकि पूरा ध्यान कानून एवं व्यवस्था पर है ताकि पहले की तरह सड़कों पर विरोध-प्रदर्शन न भड़कें. एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘आतंकियों की गतिविधि ज्यादातर दक्षिण कश्मीर में नजर आई है.’

You may also like...