सपा को प्रतिनिधि मंडल को भी सोनभद्र जाने से रोका, अखिलेश गरजे

लखनऊ 20 जुलाई । सोनभद्र के उभमा गांव में हुए नरसंहार के बाद प्रदेश में सियासत गर्म है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को वहाँ नहीं जाने दिए के बाद अब समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि मंडल को भी रोक दिया गया । इसको लेकर पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार को निशाने पर लिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार का आचरण लोकतंत्र विरोधी है।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने इस कृत्य से साबित कर दिया है कि वह जन भावनाओं के प्रति कितनी संवेदनशील है । राज्य सरकार अपनी आक्षमताओं को पर्दा डालना चाहती है।

जांच दल को घटना स्थल पर जाने से रोकने से स्पष्ट है कि भाजपा सरकार अपने पापों को छिपाना चाहती है।

अखिलेश ने बयान में कहा कि सोनभद्र के नृशंस हत्याकांड के लिए जिला व पुलिस प्रशासन तथा भाजपा सरकार जिम्मेदार हैं। आदिवासी व दलित जिस जमीन पर वर्षों से खेती कर रहे थे, उससे बेदखल करने में ग्राम प्रधान व उनके साथी काफी समय से लगे थे लेकिन जिला प्रशासन आंखे मूंदे रहा।

आपको बता दे कि नोक-झोंक के बाद जब सपा डेलीगेशन को नहीं जाने दिया गया सभी लोग लोकतांत्रिक तरीके से सड़क पर ही धरने पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। जांच दल में मिर्जापुर के पूर्व विधायक जगदम्बा सिंह पटेल, सोनभद्र के पूर्व विधायक रमेश चन्द्र दुबे व अविनाश कुशवाहा, भदोली के पूर्व विधायक जाहिद बेग, चंदौली के सपा जिलाध्यक्ष सत्य नारायण राजभर और मिर्जापुर के जिलाध्यक्ष आशीष यादव शामिल थे।

You may also like...