भगवान भोले की पूजा का सर्व श्रेष्ठ फलदाई श्रावण मास आज से शुरू

नई दिल्ली 17 जुलाई। भगवान भोले शंकर की भक्ति का महीना श्रावण माह आज से शुरू हो रहा है। सावन मास को वर्ष का सबसे पवित्र महीना माना जाता है । इस माह में विवाह संबंधित सभी परेशानियों से छुटकारा मिल जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन के महीना भगवान शिव और विष्णु का आशीर्वाद लेकर आता है।

देवी पार्वती ने भगवान शिव को पाने के लिए इस माह में कठोर तप करके भगवान शिव को प्रसन्न किया था। यह महीना भगवान शिव की पूजा के लिए विशेष महत्व रखता है।

सोमवार का प्रतिनिधि चंद्रमा है। यह मन का कारक माना जाता है चंद्रमा भगवान शिव के मस्तक पर विराजमान है। यही कारण है कि भगवान शिव अपने भक्तों के मन को नियंत्रित करके रखते हैं ।

सोमवार का दिन भगवान शिव जी की पूजा के लिए विशेष माना जाता है। हिंदू मान्यता के अनुसार सावन के सोमवार पर शिवलिंग की पूजा करने पर विशेष फल की प्राप्ति होती है। खासकर कुंवारी लड़कियां मनचाहा बंद प्राप्त करने के लिए सावन के सोमवार का व्रत रखती है।

यदि जन्म कुंडली के सातवें भाव में पापी ग्रह सूर्य मंगल शनि हो तो दांपत्य जीवन में खटास आती है.
– सप्तम भाव पर भी अधिक पापी ग्रहों की दृष्टि हो और सप्तम भाव का स्वामी अस्त हो तो भी दांपत्य जीवन में खटास रहती है

You may also like...