बिजली- उपभोक्ताओं को सुबह, दोपहर और शाम के हिसाब से बिजली का बिल देना होगा!

नई दिल्ली 13 जुलाई। बिजली सड़क और पानी जैसे मोदी को लेकर मोदी सरकार अपने कार्यकाल में बहुत कुछ करना चाहती है घर-घर तक बिजली पहुंचाने के लिए प्लान तैयार किया गया है सरकार का लक्ष्य हर घर को 24 घंटे बिजली देने का है इसके लिए उदय स्कीम पार्ट 2 लॉन्च किया जा सकता है। इसके लिए सुबह दोपहर और शाम के हिसाब से बिजली का बिल देना होगा।

एक निजी चैनल के मुताबिक ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने कहा है कि एनटीपीसी पावर ग्रिड घाटे में चल रही डिस्काम को टेकओवर कर सकती है।

सिंह ने कहा कि लापरवाह बिजली वितरण कंपनियों के खिलाफ भी सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि पर्याप्त मात्रा में बिजली सप्लाई नहीं करने पर कंपनियों का लाइसेंस रद्द हो सकता है। इतना ही नहीं अगर तय समय पर ट्रांसफार्मर नहीं लगा और लोगों को बिजली का कनेक्शन नहीं मिलता है, तो ऐसी स्थिति में डिस्काम को पेनाल्टी चुकानी होगी।

मंत्री ने बिजली बिल में बड़ा बदलाव को लेकर संकेत दिया है। अब बिजली के प्रयोग को लेकर दिन में तीन तरह के पावर टेरिफ हो सकते हैं । ग्राहकों को सुबह दोपहर और शाम के लिए अलग-अलग तरह के मुताबिक बिजली बिल भरना पड़ सकता है । नई पॉलिसी में इसका जिक्र है।

बताया जा रहा है कि मोदी सरकार त्रिस्तरीय प्लान में ईमानदार बिजली उपभोक्ताओं को 24 घंटे बिजली मुहैया कराएगी। कटिया कनेक्शन पर सख्ती से रोक लगाने के लिए बिजली केबल को अंडर ग्राउंड करने का प्लान है।

सरकार स्मार्ट मीटर लगाने की योजना में तहसील आने का विचार कर रही है कई राज्यों में स्मार्ट मीटर लगाने की गति बहुत धीमी है। ऐसी स्थिति में केंद्र राज्य सरकार से संवाद स्थापित करेगी । इस मामले में सबसे खास बात यह है कि स्मार्ट मीटर लगाने में जो खर्च आएगा उसे सरकार वहन करेगी । ग्राहकों से स्मार्ट मीटर को लेकर कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा

You may also like...