क्या झांसी के डीएम भी आवारा जानवरों को सुरक्षित स्थान पहुंचाने की पहल करेंगे?

झांसी । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में सड़क पर घूम रहे गोवंश जानवरों की सुरक्षा के लिए अभियान चलाने के आदेश दिए हैं । आदेश का पालन सरकारी अमला पूरी शिद्दत से करने में जुट गया है। इसका पहला उदाहरण महोबा में देखने को मिला। यहां जिलाधिकारी सहदेव हाथ में डंडा लेकर लोगों के साथ गोवंश की सुरक्षा के लिए सड़क पर उतर आए ।

उन्होंने गोवंश को गौशाला भिजवाने का इंतजाम करने के साथ लोगों से इस अभियान में मदद करने की अपील की। महोबा जिला अधिकारी की इस पहल को जहां लोगों ने सराहा तो वही यह सवाल उठ रहा है कि क्या झांसी में जिलाधिकारी ऐसा अभियान शुरू करेंगे?

गोरक्षा को लेकर जहां सरकार चिंतित हैं तो वहीं आम आदमी उनके सुरक्षा को लेकर पहल करने को तैयार है। सड़क पर घूम रहे इन आवारा जानवरों से जहां लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तो वहीं जानवरों की सुरक्षा को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं ।।सड़क पर घूमने वाले इन जानवरों से कई बार हादसे हो रहे हैं, तो जानवरों के लिए पर्याप्त भोजन ना मिलने से वह आक्रोशित भी हो जाते हैं।

झांसी जनपद में मुख्य मार्गों से लेकर गांव देहातों में आवारा जानवरों के बीच एक बड़ी समस्या है इतना ही नहीं राजमार्गों पर भी आवारा जानवरों का जमघट लगा रहता है। वैसे तो नगर निगम की ओर से आवारा जानवरों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया जाता है लेकिन झांसी में यह अभियान ठंडे बस्ते में है ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद यह देखना है कि झांसी में क्या प्रशासनिक अमला इस दिशा में कोई कदम उठाता है और जनता के सहयोग से आवारा घूम रहे गोवंश को गौशाला में भिजवाने का इंतजाम किया जाता है या नहीं।। वैसे योगी आदित्यनाथ की आवारा सुरक्षित रखने की ये पहल सराहनीय है।

इससे जहां गोवंश की सुरक्षा को लेकर ठोस पहल हो सकेगी तो वहीं लोगों को भी आवारा जानवरों के आतंक से मुक्ति मिल सकेगी। इसके साथ ही जानवरों को गौशाला में रखने से उन्हें भोजन आदि की सुविधा मिल सकेगी।

आवारा जानवरों के सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अभियान को सफल बनाने में जरूरी है कि सामाजिक संगठन और प्रशासनिक अमला मिलकर यदि काम करें तो इस समस्या का समाधान हो सकता है।

You may also like...