मोदी की मुस्लिम महिलाओ से मुलाकात का जबरदस्त विरोध

नई दिल्ली 20 सितम्बरः तीन तलाक जैसे मुददे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुस्लिम महिलाओ  के बीच अपनी छवि को बेहतर बनाया है। यही कारण है कि उनका मुस्लिम वर्ग के ठेकेदारो  ने अपने तरीके से विरोध करना शुरू कर दिया है। इसकी बानगी प्रधानमंत्री के वाराणसी दौरे पर मुस्लिम महिलाओ  से मुलाकात का विरोध के रूप मे  सामने आया है।

प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा 22 से होना है। मोदी की इच्छा थी कि दौरे के समय मुस्लिम महिलाओ से मुलाकात की जाए। इसके लिये प्रशासन ने तैयारियां भी शुरू कर दी, लेकिन मदरसो  को जारी आदेश के बाद विरोध करने वाको  को मौका हाथ लग गया और उन्हांेने अपने तेवर दिखा दिये।

 

प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा 22 से होना है। मोदी की इच्छा थी कि दौरे के समय मुस्लिम महिलाओ से मुलाकात की जाए। इसके लिये प्रशासन ने तैयारियां भी शुरू कर दी, लेकिन मदरसो  को जारी आदेश के बाद विरोध करने वाको  को मौका हाथ लग गया और उन्हांेने अपने तेवर दिखा दिये।

इस इच्छा को सरकारी आदेश की तरह जिला अल्पसंख्यक अधिकारी ने बनारस के सभी मदरसों और मुस्मिल शिक्षण संस्थानों को जारी की। बीते 18 सितम्बर को जारी आदेश में कहा गया कि बैठक में हिस्सा लें और साथ में दो फोटो भी लायें जिससे उनका पास जारी किया जाये। बस यहीं से शुरू हुआ विरोध। टीचर्स एसोस‍िएशन मदारिसे अरबिया यूपी के महामंत्री हाजी दीवान साहेब जमा खां ने इस आदेश के कॉपी के साथ मिडिया के सामने ये कहा कि हमारे यहां पर्दानशीं महिलाओं को राजनीति का हिस्सा ना बनाया जाये और कोई भी मदरसा इस आदेश को नहीं मानेगा। हम इसका विरोध कर रहे हैं।

जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी की ओर से जिले के सभी अनुदानित और गैर अनुदानित मदरसों को भेजे गए लेटर में कहा गया है कि आगामी 22 सितंबर को पीएम मोदी का वाराणसी के डीएलडब्ल्यू प्रेक्षागृह में अल्पसंख्यक महिलाओं के साथ संवाद का कार्यक्रम है। इस प्रेक्षागृह में 700 महिलाओं के बैठने की व्यवस्था की गई है। उस दिन अल्पसंख्यक महिलाओं को कार्यक्रम स्थल पर पहुंचाने का जिम्मा मदरसों को दिया जा रहा है। मदरसे से कम से कम 25-25 महिलाओं को कार्यक्रम स्थल पर पहुंचाएं। इस सिलसिले में सोमवार को एक बैठक जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी के कार्यालय में होगी जिसमें मदरसे के एक शिक्षक या शिक्षणेत्तर कर्मचारी को नामित कर भेजा जाए, ताकि प्रधानमंत्री के संवाद कार्यक्रम के बारे में विचार-विमर्श किया जा सके।

वहीं तीन तलाक और हलाला के बाद करीब 700 मुस्लिम महिलाओं से संवाद का कार्यक्रम अब कैंसिल कर दिया गया है जिसके बाद दिल्ली के पीएमओ ने एक संभावित प्रोटोकाल भी जिले अधिकारियो को भेज दिया है। यही नहीं, वाराणसी में एसपीजी ने अपना डेरा भी दाल दिया है और उन स्थानों पर निरीक्षण का सिलसिला शुरू हो गया है, जहां-जहां पीएम को जाना है। 22 सितम्बर 13.25 पर प्रधानमंत्री दिल्ली एयरपोर्ट से रवाना होंगे 14.45 दोपहर वाराणसी के लालबहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे 14.50 पर लालबहादुर शास्त्री एयरपोर्ट के को पुलिस लाइन हैलीपैड के लिए रवाना होंगे 15.10 पुलिस लाइन हैलीपैड पर पहुंचेंगे 15.15 पुलिस लाइन हैलीपैड से रवाना होकर सीधे बाई रोड ट्रेड फैसिलिटी सेंटर पहुंचेंगे जहा 17 परियोजनाओं का लोकार्पण और 5 परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे यही मोदी के एक जनसभा को सम्बोधित करने की भी उम्मीद है। 17.05 पीएम फिर पुलिस लाइन हैलीपैड निकलेंगे 17.30 पुलिस लाइन से DLW हैलीपैड के लिए रवाना 17.40 से 18.40 तक DLW के गेस्ट हॉउस में पार्टी के वरिष्ठ नेताओ के बैठक करेंगे और विकास कार्यों की जानकारी लेंगे 18.44 से गेस्टहाउस कर तुलसी मानस मंदिर जायेगे जहा रामचरित मानस पर डाक टिकट जारी करेंगे 20.02 पर पास के ही दुर्गा मंदिर पहुचेंगे और नवरात्रि में विशेष पूजन के साथ ही नवरात्रि की तयारी का जायजा लेंगे 20.20 पर DLW गैस हाउस पहुचंगे और रात्रि विश्राम करेंगे 23 सितम्बर 09.00 गेस्टहाउस से निकल कर हैलीपैड पहुंचेंगे 09.05 रवाना होकर आराजी लाइन पहुंचने के साथ ही जनसभा और पशुओ के संबंधित कार्यक्रम के साथ ही प्रधानमंत्री आवासी योजना अर्बन कार्यक्रम और एक जनसभा को संबधित सड़क मार्ग से शाहंशाहपुर जायेगे। 09.55 पर शहंशाहपुर पहुंचने वह स्वच्छता कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे और वापस आरजी लाइन बे बने हैलीपैड से 12.05 पर दिल्ली रवाना हो जायेंगे। पीएम अपने इस दौरे में काशी में 846.50 करोड़ की परियोजना की सौगात देंगे ,जिसमे 486.79 करोड़ की 17 परियोजनाओं का लोकार्पण करंगे। साथ ही 359.71 5 परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे।

You may also like...